हाल ही में हुई नियुक्तियां व नियुक्त व्यक्ति परिचय Ι Recently Appointments

हाल ही में हुई नियुक्तियां Recently Appointments :- कौन क्या है, किसे किस पद पर नियुक्त किया गया है।

दिल्ली खेल विश्वविद्यालय का पहला कुलपति किसे बनाया गया ?

उत्तर – कर्णम मल्लेश्वरी को।

कर्णम मल्लेश्वरी

ओलंपिक में भारत के लिए पदक जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी को दिल्ली खेल विश्वविद्यालय का पहला कुलपति बनाया है। कर्णम मल्लेश्वरी ने साल 2000 के सिडनी ओलंपिक में भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। देश के लिए एथलीट्स तैयार करने के लिए इस विश्वविद्यालय की स्थापना की गई।

इजराइल के प्रधानमंत्री कौन हैं ?

उत्तर – नेफ्ताली बेनेट (Naftali Bennett)

Naftali Bennett

13 जून 2021 को नेफ्ताली बेनेट इजराइल के नए प्रधानमंत्री बने। ये New Right Party के नेता हैं। इस पद पर इन्होंने बेंजामिन नेतन्याहू का स्थान लिया। बेंजामिन नेतन्याहू के 12 साल के लम्बे कार्यकाल के बाद इन्हें प्रधानमंत्री चुना गया है। इजराइल के इतिहास में बेंजामिन नेतन्याहू का कार्यकाल सबसे लम्बा रहा। फिलहाल अब बेंजामिन पर धोखाधड़ी का मुकदमा चल रहा है। नेफ्ताली का जन्म 25 मार्च 1972 को हुआ था।

इजराइल की संसद (नेसेट) में कुल 120 सीटें हैं। इस चुनाव में कोई भी पार्टी बहुमत के आंकड़े (61 सीटें) तक नहीं पहुँच सकी। बेनेट की पार्टी के पास मात्र 7 सीटें ही हैं, इसलिए ये इस पद पर कब तक रहेंगे यह कह पाना मुश्किल है। उन्होंने यह सरकार गठबंधन से बनाई है। इसी कारण ये सितंबर 2023 तक ही प्रधानमंत्री पद पर रहेंगे। इनके बाद यायर लेपिड अगले प्रधानमंत्री होंगे जो नवंबर 2025 तक पद पर रहेंगे। मतदान के दौरान 60 सदस्यों ने इनके पक्ष में और 59 ने इनके विरोध में मत दिया। अर्थात् ये मात्र 1 वोट अधिक होने के कारण प्रधानमंत्री बन गए। मिकी लेवी को इजराइली संसद का स्पीकर चुना गया।

इसे भी पढ़ें  दुनिया में कब क्या हुआ Ι Duniya mei Kab Kya Hua

हाल ही में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष किसे बनाया गया ?

Arun kumar mishra

उत्तर – अरुण कुमार मिश्रा को। इन्हें 31 मई 2021 को कमीशन का चेयरमैन चुना गया था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंजूरी के बाद 2 जून 2021 को अरुण कुमार मिश्रा को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (National Human Rights Commission) का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया। ये भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त जज हैं। प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली एक उच्च स्तरीय समिति ने इनके नाम पर मुहर लगाई। इनका जन्म 3 सितंबर 1955 को हुआ था। इस पद के लिए इनके अतिरिक्त अन्य तीन पूर्व न्यायाधीशों के नामों को भी शॉर्टलिस्ट किया गया था। उन्हीं नामों में से समिति ने अरुण मिश्रा के नाम पर मुहर लगाई।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की चयन समिति –

मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति समिति में कुम 5 सदस्य होते हैं। इनमें भारत के प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, लोकसभा अध्यक्ष (स्पीकर), राज्यसभा उपसभापति व राज्यसभा में विपक्ष के नेता सम्मिलित हैं। हालांकि इस बार नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने पीएम को पत्र लिखकर खुद को इन पदों के चयन की प्रक्रिया से अलग रखा। दरअसल अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के कम से कम एक व्यक्ति को आयोग का सदस्य बनाये जाने की बात को स्वीकर नहीं किया गया था।

पूर्व अध्यक्ष –

अरुण कुमार मिश्रा ने इस पद पर एच. एल. दत्तू का स्थान लिया। मिश्रा जी से पहले एच. एल दत्तू मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष थे। दिसंबर 2020 में एच एल दत्तू मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष पद से सेवानिवृत्त हो गए थे। तब से यह पद खाली पड़ा था।

इसे भी पढ़ें  रोचक तथ्य : क्या आप जानते हैं

अरुण कुमार मिश्रा की उपलब्धियाँ –

1978 ई. में अरुण कुमार मिश्रा ने एक वकील के तौर पर अपने करियर की शुरुवात की थी।

  • 1998-99 में सबसे कम उम्र में बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन चुने गए।
  • 25 अक्टूबर 1999 से 12 सितंबर 2010 तक मध्यप्रदेश हाई कोर्ट में जज रहे।
  • 26 नवंबर 2010 से 13 दिसंबर 2012 तक राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रहे।
  • 14 दिसंबर 2012 से 6 जुलाई 2014 तक कलकत्ता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रहे।
  • 7 जुलाई 2014 से 20 सितंबर 2020 तक सुप्रीम कोर्ट के जज रहे।

अरुण कुमार मिश्रा से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न –

  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष हाल ही में किसे नियुक्त किया गया है ?
  • अरुण कुमार मिश्रा मध्यप्रदेश हाई कोर्ट में जज कब से कब तक रहे ?
  • राजस्थान हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश कब से कब तक रहे ?
  • अरुण कुमार मिश्रा कलकत्ता हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश कब से कब तक रहे ?
  • अरुण कुमार मिश्रा सुप्रीम कोर्ट के जज कब से कब तक रहे ?
  • इनसे पहले मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष कौन थे ?
  • राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष की चयन समिति में कौन कौन सम्मिलित होता है ?

हाल ही में सीबीआई प्रमुख किसे नियुक्त किया गया ?

उत्तर – सुबोध कुमार जायसवाल।

सीबीआई चीफ सुबोध कुमार जायसवाल

1985 बैच के महाराष्ट्र कैडर के IPS अधिकारी सुबोध कुमार जायसवाल को हाल ही में CBI प्रमुख नियुक्त किया गया है। ये मूल रूप से झारखंड के धनबाद के हैं। मात्र 23 साल की अवस्था में ये IPS अधिकारी बने थे। सीबीआई चीफ नियुक्त किये गए ये महाराष्ट्र कैडर के तीसरे व्यक्ति हैं। ये ATS (एंटी टैरेरिस्ट स्क्वाड) में भी रह चुके हैं। इस दौरान इन्होंने साल 2006 में मुम्बई ट्रेन धमाकों की जाँच भी की। इन्होंने 9 साल तक RAW में भी काम किया है। साल 2009 में इन्हें मुम्बई का पुलिस कमिश्नर बनाया गया। ये तेलगी फर्जी स्टांप घोटाले के लिए गठित SIT में भी थे। ये महाराष्ट्र पुलिस के महानिदेशक और CISF के प्रमुख भी रह चुके हैं।

इसे भी पढ़ें  खेलकूद प्रश्नोत्तरी (Sports Quiz)

सीबीआई प्रमुख का चयन –

CBI प्रमुख के चयन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति की बैठक की गई। इस समिति में प्रधानमंत्री के अतिरिक्त सीजेआई एन रमन्ना व लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी भी थे। सीबीआई चीफ के लिए सुबोध कुमार जायसवाल, राजेश चंद्रा, वी.एस. के. कौमुदी के नामों को शार्टलिस्ट किया गया था। समिति ने इनमें सुबोध कुमार के नाम पर मोहर लगाई।

  • Who was recently appointed as CBI Chief ?

सीबीआई के पूर्व प्रमुख कौन –

सुबोध कुमार जायसवाल से पहले प्रवीण सिन्हा इस पद को संभाल रहे थे। जो कि 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं। ये सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक के तौर पर अपना योगदान दे रहे थे। सीबीआई प्रमुख ऋषि कुमार शुक्ला के 3 फरवरी 2021 को सेवानिवृत्त हो जाने के बाद ये प्रवीण सिन्हा को यह प्रभार सौंपा गया था।

पूर्व सीबीआई निदेशकों की सूची 

(Visited 20 times, 1 visits today)

One thought on “हाल ही में हुई नियुक्तियां व नियुक्त व्यक्ति परिचय Ι Recently Appointments”

  1. Having read this I believed it was very informative. I appreciate you finding
    the time and energy to put this short article together.
    I once again find myself spending a lot of time both reading and commenting.
    But so what, it was still worthwhile!

Leave a Reply

Your email address will not be published.