भारत का महान्यायवादी

भारत का महान्यायवादी ( Attorney General of India) :

महान्यायवादी भारत सरकार का प्रथम विधि अधिकारी होता है। भारत के महान्यायवादी के पद का सृजन भारतीय संविधान द्वारा किया गया है। अतः यह एक संवैधानिक पद है। महान्यायवादी भारत सरकार का विधि अधिकारी होता है। भारत का महान्यायवादी एक प्रमुख विधिवेत्ता होता है। संविधान के ‘अनुच्छेद 76’ के अनुसार महान्यायवादी को राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त किया जाता है। यह राष्ट्रपति के प्रसादपर्यंत पद पर रहता है। अतः राष्ट्रपति को इसे पदच्युत करने का अधिकार है। यह उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश की योग्यता रखता है। यह भारत सरकार को विधिक मामलों में सलाह देता है। राष्ट्रपति द्वारा सौंपे गए विधिक कृत्यों का निर्वहन करता है। इसे अपने कर्तव्यों के पालन में भारत के किसी भी न्यायालय में सुनवाई का अधिकार है। यह साधारणतः भारत सरकार की ओर से उच्चतम न्यायालय में उपस्थित होता है। वर्तमान में ऐसे मामले बहुत बढ़ गए हैं जिनमें सरकार पक्षकार होती है। ऐसे सभी मामलों में महान्यायवादी का उपस्थित रह पाना संभव नहीं है। इसीलिए सरकार इसकी सहायता के लिए अन्य सॉलिसिटर व अपर सॉलिसिटर्स को नियुक्त करती है। भारत सरकार महान्यायवादी से देश के किसी उच्च न्यायालय में उपस्थित रहने की अपेक्षा कर सकती है। भारत का महान्यायवादी भारत सरकार के विरुद्ध न तो सलाह दे सकता है, और न ही मुकदमा ले सकता है। किंतु वह सिविल मामलों में किसी प्राइवेट पक्षकार की ओर से उपस्थित हो सकता है, यदि दूसरा पक्ष राज्य न हो। यह किसी कंपनी में निदेशक भी नहीं बन सकता। विधि मंत्रालय के अधीन विधि कार्य विभाग भारत सरकार को परामर्श देता है। महान्यायवादी से परामर्श लेने के लिये मामलों को विधि मंत्रालय के माध्यम से भेजा जाता है। महान्यवादी को वेतन के साथ हर परामर्श और उपस्थिति के लिए अतिरिक्त फीस दी जाती है।

इसे भी पढ़ें  राज्य विधानमण्डल : विधानसभा और विधानपरिषद

यह संसद सदस्य नहीं होता है। लेकिन संविधान के ‘अनुच्छेद 88’ के अनुसार महान्यायवादी संसद के किसी सदन में या संयुक्त बैठक में भाग ले सकता है। संसद की किसी समिति, जिसका वह सद्य है, की कार्यवाही में भाग ले सकता है एवं बोल सकता है। किंतु महान्यायवादी को संसद में मत देने का अधिकार नहीं है। यह मंत्रिपरिषद् का सदस्य नहीं होता।

के. के. वेणुगोपाल –

कोट्टयन कटंकोट वेणुगोपाल का जन्म 1931 को हुआ था। ये 1 जुलाई 2017 को 15वें अटॉर्नी जनरल ऑफ इंडिया बने। भारत सरकार द्वारा इन्हें पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित किया जा चुका है। साल 2002 में इन्हें सार्वजनिक उपक्रम के क्षेत्र में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। इससे पहले भी ये मोरारजी देसाई की सरकार में भारत के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल रह चुके हैं। 2020 में इनका कार्यकाल समाप्त होने के बाद सरकार द्वारा 1-1 साल करके तो बार इनका कार्यकाल बढ़ाया जा चुका है। अब इस पद पर इनका कार्यकाल 30 सितंबर 2022 को समाप्त हुआ। सरकार ने इनका कार्यकाल एक बार फिर बढ़ाने की बात की थी। लेकिन बढ़ती उम्र (90 वर्ष) और स्वास्थ्य का हवाला देते हुए उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया।

मुकुल रोहतगी –

मुकुल रोहतगी को 19 जून 2014 को राष्ट्रपति प्रणव मुख्रजी द्वारा भारत का 14वां महान्यायवादी नियुक्त किया गया। इस पद पर इन्होंने 18 जून 2017 तक कार्य किया। इनका जन्म 17 अगस्त 1955 को मुम्बई, महाराष्ट्र में हुआ था। भारत के महान्यायवादी के रूप में इनका दूसरा कार्यकाल 1 अक्टूबर 2022 से शुरु हुआ। इन्हें अटल वायपेयी सरकार के दौरान 1999 में अतिरिक्त सॉलिरिटर नियुक्त किया गया था। इन्होंने 2002 में गुजरात दंगों के मामले में उच्चतम न्यायालय में सरकार का प्रतिनिधित्व किया।

इसे भी पढ़ें  केंद्र सरकार व राज्य सरकार की सरकारी योजनाएं

महाधिवक्ता (Advocate General) –

जिस प्रकार भारत का महान्यायवादी केंद्र सरकार का शीर्ष विधिवेत्ता होता है, और केंद्र सरकार को मरामर्श देने के लिए नियुक्त किया जाता है। उसी प्रकार राज्य सरकार को परामर्श देने के लिए एडवोकेट जनरल की नियुक्ति की जाती है। यह राज्य सरकार का प्रथम विधिक सलाहकार होता है। इसकी नियुक्ति राज्य के राज्यपाल द्वारा की जाती है। यह उच्च न्यायालय का न्यायाधीश बनने की योग्यता रखता है। संविधान के अनुच्छेद 165 के अनुसार यह राज्यपाल के प्रसादपर्यंत पद पर रहता है।

Attorney General of India List –

  • Mukul Rohatgi :- 1 oct 2022 (Incumbent)
  • K. K. Venugopal :- 1 July 2017 – 30 Sep 2022
  • Mukul Rohatgi :- 19 June 2014 – 18 June 2017
  • Goolam Essagi Vahenvati :- 8 June 2009 – 11 June 2014
  • Milon Kumar Banerji :- 5 June 2004 – 7 June 2009
  • Soli Jehangir Sorabjee :- 7 April 1998 – 4 June 2004
  • Ashok Desai
  • G. Ramaswamy
  • Soli Jehangir Sorabjee
  • Keshava Parasaran
  • Lal Narayan Sinha
  • S. V. Gupte
  • Niren De
  • Chander Kishan Daphtary :- 2 March 1963 – 30 Oct 1968
  • Motilal Chimanlal Setalvad :- 28 January 1950 – 1 March 1963
(Visited 27 times, 1 visits today)
error: Content is protected !!