अफ्रीका महाद्वीप – देश, राजधानी, मुद्रा (Africa)

‘अफ्रीका महाद्वीप – देश, राजधानी, मुद्रा (Africa)’ शीर्षक के इस लेख में अफ्रीका महाद्वीप से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी को साझा किया गया है। यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा महाद्वीप है। सामाजिक, आर्थिक, उद्योगिक, शिक्षा व संस्कृत में अत्यंत पिछड़ा होने के कारण इसे अंधमहाद्वीप के नाम से भी जाना जाता है।

https://hindiprem.com/

अफ्रीका महाद्वीप की सीमाएं –

इसके पूर्व में हिंद महासागर, पश्चिम में अटलांटिक महासागर और उत्तर में यूरोप महाद्वीप अवस्थित है।

यह जिब्राल्टर जलसंधि द्वारा यूरोप से पृथक होता है। अफ्रीका के उत्तर में भूमध्यसागर अवस्थित है।

अफ्रीका का क्षेत्रीय भूगोल –

विषुवत रेखा को दो बार काटने वाली कांगो/जायरे नदी इसी महाद्वीप पर बहती है।

यहां की लिम्पोपी नदी मकर रेखा को दो बार काटती है।

सवाना अफ्रीका का उष्ण घास का मैदान और वेल्ड शीतोष्ण घान मैदान है।

केप काहिरा रेलमार्ग महाद्वीप का सबसे लम्बा रेलमार्ग है, जो केपटाउन (दक्षिण अफ्रीका) से काहिरा (मिश्र) तक जाता है।

‘टैफिलालेट मरुद्यान’ मोरक्को में अवस्थित है।

अफ्रीका में अबीसीनिया का पठार और दक्षिण अफ्रीका का पठार अवस्थित है।

दक्षिण अफ्रीका का जोहांसबर्ग स्वर्णनगर के नाम से जाना जाता है।

महाद्वीप का सबसे अधिक कॉफी उत्पादक देश केन्या है।

यहां का सर्वाधिक जैतून उत्पादन करने वाला देश ‘ट्यूनीशिया’ है।

स्टेनले जलप्रपात कांगो नदी पर और विक्टोरिया प्रपात जाम्बेजी नदी पर स्थित है।

मिश्र के किसानों को फेल्लाह कहा जाता है। घाना को गोल्ड कोस्ट के नाम से जाना जाता है।

नाइजर नदी को पॉम ऑयल नदी के नाम से जाना जाता है।

मिश्र को एशिया व यूरोप महाद्वीप के जंक्शन के रूप में जाना जाता है।

कांगो देश को वनों का देश कहा जाता है।

विश्व में अफ्रीका –

यह पृथ्वी का एकमात्र ऐसा महाद्वीप है जिससे कर्क, मकर और विषुवत तीनों रेखाएं गुजरती हैं।

विश्व की सबसे लंबी नदी नील इसी महाद्वीप पर बहती है।

यह नदी विक्टोरिया झील से निकलती है, आसवन बाँध नील नदी पर ही अवस्थि है।

दक्षिण अफ्रीका की किम्बरले खान विश्व की सबसे बड़ी हीरे की खान है।

इसीलिए किंबरले को हीरों का नगर कहा जाता है।

विश्व का सबसे बड़ा हीरा कुलिनान दक्षिण अफ्रीका की प्रीमियर खान से प्राप्त हुआ था।

इस हीरे को सर थॉमस कुलिनॉन द्वारा खोजा गया था, इसी कारण इसका नाम कुलिनॉन रखा गया।

विश्व के 90 प्रतिशत क्रोमियम का उत्पादन दक्षिण अफ्रीका से होता है।

स्वेज नहर के बारे में –

मिश्र की स्वेज नहर लालसागर को भूमध्यसागर से जोड़ती है।

168 किलोमीटर लंबी इस नहर का निर्माण वर्ष 1869 में का किया गया था।

इसके बाद साल 1956 में मिश्र द्वारा इस नहर का राष्ट्रीयकरण किया गया।

इसके निर्माण के बाद यूरोप और भारत के बीच की दूरी में 7000 किलोमीटर की कमी आयी है।

इस नहर के उत्तरी छोर पर पोर्ट सईद बंदरगाह और दक्षिणी छोर पर पोर्ट स्वेज अवस्थित है।

अफ्रीका महाद्वीप की जनजातियां –

बुशमैन जनजाति कालाहारी मरुस्थल में पायी जाती है।

पिग्मी जनजाति कांगो बेसिन में पायी जाती है।

बद्दू जनजाति सहारा मरुस्थल में पायी जाती है।

तुओंग जनजाति सहारा मरुस्थल में पायी जाती है, यह विदेशी पर्यटकों के लिए मार्गदर्शक का कार्य करती है।

छग्गा जनजाति – इस जनजाति द्वारा किलिमंजारो पर्वत के पूर्वी ढलानों पर कॉफी (कहवा) की खेती की जाती है।

अफ्रीका महाद्वीप की प्रमुख नदियाँ –

  • Benne
  • Blue Nile
  • Bomu
  • Chari
  • Congo (Zaire)
  • Cubango
  • Cuito
  • Cunene
  • Gambia
  • Joliba
  • Lualaba
  • Kafue
  • Kasai
  • Molopo
  • Niger
  • Nile
  • Nimba
  • Ogooue
  • Orange
  • Rufiji
  • Ruvuma
  • Sangha
  • Sankuru
  • Senegal
  • Shibeli
  • Sobat
  • Tana
  • Turkana
  • Vaal
  • Volta
  • White Nile
  • Zambezi

अफ्रीका का मरुस्थल –

पृथ्वी का सबसे बड़ा मरुस्थल सहारा अफ्रीका महाद्वीप पर अवस्थित है। चाड झील इसी मरुस्थल पर अवस्थित है। दक्षिण अफ्रीका में अवस्थित कालाहारी मरुस्थल में शुतुर्मुर्ग पाये जाते हैं।

अफ्रीका के स्थलआबद्ध देश कौन कौन से हैं ?

स्थलरुद्ध देश वे कहलाते हैं जिनकी भौगोलिक सीमा समुद्र से नहीं मिलती। माली , बुर्किनाफासो , नाइजर , चाड , मध्य अफ्रीकी गणराज्य, दक्षिणी सूडान , युगांडा , रवांडा , वुरुंडी , मालावी , जाम्बिया, जिम्बाम्बे , बोत्सवाना , स्वाजीलैंड , और लेसोथो अफ्रीका महाद्वीप के स्थलआबद्ध देश हैं।

इसे भी पढ़ें  एशिया महाद्वीप (Asia)

फ्रंटलाइन स्टेट्स – अफ्रीका के अंगोला, बोत्सवाना, मोजाम्बिक, तंजानिया, जिम्बाम्बे, जाम्बिया को संयुक्त रूप से फ्रंटलाइन स्टेट्स (सीमावर्ती राज्य) के नाम से जाना जाता है।

हॉर्न ऑफ अफ्रीका – इसमें पूर्वी अफ्रीका के देश इथोपिया, सोमालिया, जिबूती शामिल हैें।

भूमध्यरेखा पर अवस्थित अफ्रीकी देश – गैबोन, कांगो, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, युगांडा, केन्या, सोमालिया हैं।

नील नदी को बारे में जानकारी

लम्बाई के आधार पर विश्व की सबसे बड़ी नदी नील है। नील नदी की लम्बाई 6500 किलोमीटर है। यह अफ्रीका महाद्वीप की विक्टोरिया झील से निकलती है। यह उत्तरवाहिनी नदी है। दक्षिण से निकलकर उत्तर की ओर बहती हुई यह भूमध्यसागर में गिरती है। रवांडा , बुरुंडी , युगांडा , कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य , केन्या , इथोपिया , सूडान , दक्षिणी सूडान , व मिश्र नील नदी के अपवाह क्षेत्र के अंतर्गत आते हैं। मिश्र को नील नदी का उपहार कहा जाता है। मिश्र की राजधानी काहिरा नील नदी पर बसी है।

अफ्रीका का नवीनतम देश कौनसा है ?

दक्षिणी सूडान इस महाद्वीप का नवीनतम देश है।

9 जुलाई 2011 को यह एक देश के रुप में अस्तित्व में आया। यह संयुक्त राष्ट्र संघ का सदस्य बनने वाला विश्व का 193 वां देश है।

अफ्रीकी देश – राजधानी व मुद्रा

देशराजधानीमुद्रा
मिश्रकाहिरापाउंड
सूडानखारतूमपाउंड
द. सूडानसूबापाउंड
नाइजीरियालागोसनैरा
नामीबियाविंडहाकरैंड
अंगोलालुआंडाक्वांजा
कांगो/जायरेकिंशासाफ्रैंक
कांगो गणराज्यब्राजविलेफ्रैंक
सोमालियामेगादिशूशिलिंग
इथोपियाअदिसअबाबाबिरर
मोरक्कोरबातदरहम
युगांडाकम्पालाशिलिंग
बोत्सवानागैबरोनपुला
शेसल्शविक्टोरियारुपया
केन्यानैरोबीशिलिंग
तंजानियादारुस्सलमशिलिंग
अल्जीरियाअल्जीयर्सदीनार
मोजांबिकमपूतोमेटिकल
रवांडाकेगालीफ्रैंक
मॉरीशसपोर्ट लुइसरुपया
माली बमाकोECO
जिम्बाम्बेहरारेडॉलर
बेनिनपोर्टोनोवाECO
जाम्बियालुसाकाक्वाचा
चाडअनडजमेनाCFA फ्रैंक
जिबूतीजिबूतीफ्रैंक
सेनेगलडकारECO
गैबनलिब्रेविलCFA फ्रैंक
गाम्बियाबांजुलदलासी
बुरुंडीबुजुम्बुराफ्रैंक
घानाअक्काराकैडी
बुर्किनाफासोक्वागादोगोECO
गिनीकोनेक्रीसीली
गिनी बिसाऊबिस्सौECO
इरीट्रियाअस्मारानाकफा
लेसोथोमासेरुलोटी
कैमरूनयाओंडेCFA फ्रैंक
स्वाजीलैंडएंबाबनेलिलंगनी
नाइजरनिआमीECO
मेडागास्करएंटेनानेरिवोमलागासी फ्रैंक
मलावीलिलोंग्वेक्वाचा
मॉरिटानियानौकचोटमॉरीशस रुपया
केप वर्डेप्रायाएस्कुडो
टोगोलोमECO
लाइबेरियामोनरोवियाडॉलर
कोमोरोसमोरोनीफ्रैंक
ट्यूनीशियाटुनिसदीनार
लीबियात्रिपोलीदीनार
सियरालियोनफ्रीटाउनलियोन
साओ टोमे और प्रिंसिपेसाओ टोमदोबरा
भूमध्यरेखीय गिनीमालाबीCFA फ्रैंक
मध्य अफ्रीकी गणराज्यबांगुईCFA फ्रैंक
द. अफ्रीकाकेपटाउन (विधायी)
प्रिटोरिया (प्रशासनिक)
ब्लूमफांटिन (न्यायिक)
रैंड
कोट द आइवर (आइवरी कोस्ट)यामोस्सोक्रोECO

अल्जीरिया –

यह अफ्रीका महाद्वीप पर स्थित एक देश है। इसकी राजधानी अल्जीयर्स देश के सुदूर उत्तर में स्थित है। अल्जीरिया का क्षेत्रफल 23,81,741 वर्ग किलोमीटर है। क्षेत्रफल के आधार पर यह विश्व का 10वां सबसे बड़ा देश है। यहाँ की राजभाषा अरबी है। अल्जीरिया के पूर्व में ट्यूनीशिया व लीबिया, पश्चिमोत्तर में मोरक्को, पश्चिम में पश्चिमी सहारा, दक्षिण पश्चिम में मौरिटानिया, माली और दक्षिण में नाइजर अवस्थित है। यहाँ की राष्ट्रीय मुद्रा ‘अल्जीरियाई दिनार’ है। यह बहुत सी प्राचीन सभ्यताओं की पृष्ठभूमि रह चुका है। इस क्षेत्र में बहुत सी सल्तनतों व राजकुलों का शासन रहा है। यह 48 राज्यों वाला एक अर्द्ध राष्ट्रपति प्रधान देश है।

नाइजर –

नाइजर एक अफ्रीकी देश है, यह अफ्रीका महाद्वीप पर स्थित है। इसकी राजधानी  नियामे (Niamey) है। यह एक स्थल आबद्ध देश है, अर्थात इसकी सीमा समुद्र से नहीं लगती। नाइजर के पूर्व में चाड, पश्चिम में माली व बुर्किनाफासो, उत्तर में अल्जीरिया व लीबिया, और दक्षिण में नाइजीरिया व बेनिन स्थित है। यहाँ पर नाइजर नदी बहती है।

नाइजीरिया –

नाइजीरिया एक अफ्रीकी देश है, इसकी राजधानी अबूजा है। इससे पहले लागोस नाइजीरिया की राजधानी थी। नाइजीरिया अफ्रीका का सर्वाधिक आबादी वाला देश है। इसके उत्तर में नाइजर, पूर्व में कैमरून, पश्चिम में बेनिन और पूर्वोत्तर में थोड़ी सी सीमा चाड से भी लगती है। इसके दक्षिण में अटलांटिक महासागर है। नाइजीरिया का क्षेत्रफल 9,23,768 वर्ग किलोमीटर है। इस देश का इतिहास बहुत ही पुराना है। पुरातात्विक अभिलेखों के अनुसार यहाँ 9000 ई. पू. में सभ्यता की शुरुवात हुई थी। ब्रिटेन ने 1900 ई. में इस देश पर नियंत्रण कर लिया और 1914 ई. में उपनिवेश बना।

इसे भी पढ़ें  ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप - देश, राजधानी, मुद्रा (Australia Continent)

इसे 1 अक्टूबर 1960 को ब्रिटेन से आजादी मिली। 1963 ई. में नाइजीरिया ने खुद को एक संघीय गणराज्य घोषित किया। यहाँ पर प्रधानमंत्री की हत्या के बाद गृहयुद्ध भी हो चुका है। यहाँ की राजभाषा अंग्रेजी है।  नाइजीरिया में अंग्रेजी व इस्लामिक कानूनों को मान्यता है। यहाँ के बोर्नो प्रांत में चाड झील एक पर्यटन स्थल है।

लीबिया –

यह अफ्रीका महाद्वीप का उत्तर में अवस्थित देश है। इसकी राजधानी त्रिपोली देश का सबसे बड़ा नगर है। लीबिया के पूर्व में मिश्र, पश्चिम में अल्जीरिया व ट्यूनीशिया, दक्षिण में नाइजर व चाड और दक्षिण पूर्व में सूडान अवस्थित है। इसके उत्तर में सिद्रा की खाड़ी और भूमध्यसागर अवस्थित है।  यहाँ की राजभाषा अरबी है। इसे यूके व फ्रांस से 24 सितंबर 1951 को स्वतंत्रता प्राप्त हुई। लीबिया का क्षेत्रफल 17,59,541 किलोमीटर है। क्षेत्रफल की दृष्टि से लीबिया अफ्रीका महाद्वीप का चौथा और दुनिया का 17वां सबसे बड़ा देश है। इसका लगभग 90 प्रतिशत हिस्सा मरुस्थल है।

1911 ई. में इतावली सैनिकों ने राजधानी त्रिपोली पर कब्जा कर लिया। 1934 ई. में इटली ने लीबिया को अपना उपनिवेश बना लिया। लीबिया को 1951 ई. में स्वतंत्रता प्राप्त हुई और इसका नाम ‘यूनाइटेड लीबियन किंगडम’ रखा गया। बाद में 1963 ई. में इसका नाम बदलकर ‘किंगडम ऑफ लीबिया’ कर दिया गया। 1969 ई. में हुए तख्तापलट के बाद इसका नाम ‘लिबियन अरब रिपब्लिकन’ कर दिया गया। बाद में 1977 ई. में इसका नाम बदलकर ‘महान समाजवादी जनवादी लिबियाई अरब जम्हूरिया’ कर दिया गया। इसके पास बहुत सारा तेल का भंडार है। 1958 ई. में यहाँ पर तेल की खोज होने के बाद से इसकी अर्थव्यवस्था में बदलाव आया।

कांगो गणराज्य (जायरे) –

समुद्र तल से दूर जायरे नदी के जलग्रहण क्षेत्र में स्थित एक देश है। इस देश की राजधानी किनशासा है। अटलांटिक महासागर से कांगो नदी द्वारा यहाँ तक जाया जा सकता है। यहाँ के अधकांश लोग बंतू जनजाति से संबंधित हैं और इनकी भाषा भी बंतू है। पहले इस देश का नाम जायरे था और इस पर बेल्जियम का अधिपत्य था। यह अफ्रीका महाद्वीप का पहला देश है जिसने पूर्ण रूप से अशांति फैलाकर स्वतंत्रता प्राप्त की। यहाँ पर उष्णार्द्र जलवायु पायी जाती है। यहाँ पर घनी वनस्पतियां पायी जाती हैं। वन्य प्राणियों की विशाल विविधता के कारण जायरे को विशाल चिड़ियाघर कहा जाता है। जायरे के पास विश्व का सबसे सम्पन्न तांबे का भंडार है।

मिश्र ( Egypt ) –

मिश्र अफ्रीका महाद्वीप के उत्तर में स्थित है। इसकी राजधानी काहिरा है। इसके उत्तरी छोर पर काहिरा के निकट विश्व की सबसे लम्बी नदी नील नदी डेल्टा बनाती है। नील नदी इसके पूर्वी हिस्से में दक्षिण से उत्तर की दिशा में बहती है और भूमध्यसागर में गिरती है। अस्वान बांध नील नदी का सबसे ऊंचा बांध है। यह देश थोड़ा सा एशिया महाद्वीप में भी प्रवेश करता है। एशिया का सिनाई प्रायद्वीप इन दोनों महाद्वीपों को संगम स्थल पर ला देता है। कर्क रेखा मिश्र के दक्षिणी भाग से गुजरती है। मिश्र का दक्षिणी भाग साल भर शु्ष्क व गर्म रहता है। मिश्र के मात्र 3 प्रतिशत भाग पर ही खेती होती है। यहाँ के किसानों को फेल्लाह कहा जाता है। सर्दियों में भूमध्यसागरीय तटों पर कुछ वर्षा होती है। अप्रैल-मई में दक्षिण की ओर से चलने वाली धूलभरी शुष्क हवाओं को ‘खमसिन’ कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें  यूरोप महाद्वीप - देश, राजधानी, मद्रा (Europe)

सूडान –

यह दक्षिण पूर्व अफ्रीका महाद्वीप पर स्थित एक देश है। इसके पूर्व में भूमध्यसागर स्थित है। उत्तर में मिश्र, पश्चिमोत्तर में लीबिया, पश्चिम में चाड, दक्षिण-पश्चिम में सेंट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक और दक्षिण में दक्षिण सूडान स्थित है। इसके पूर्व में इरीट्रिया और दक्षिण-पूर्व में इथोपिया स्थित है। इसकी राजधानी खार्तूम (Khartoum) है। यहाँ के विधानमण्डल को मजलिस कहा जाता है। इसका उच्च सदन राज्य परिषद और निम्न सदन राष्ट्रीय सभा है।

इसे 1 जनवरी 1956 को यूनाइटेड किंगडम से स्वतंत्रता प्राप्त हुई। हालांकि इसके 17 साल बाद तक इसे गृहयुद्ध का सामना करना पड़ा। 1989 ई. में कर्नल उमर अल बाशिर ने रक्तविहीन तख्तापलट कर सत्ता हथिया ली। सूडान ने व्यापक आर्थिक सुधार कर बेहतर आर्थिक विकास दर प्राप्त की। 5 जनवरी 2005 को इसने अपना वर्तमान संविधान लागू किया। साल 2011 में स्वतंत्रता के मुद्दे पर जनमत संग्रह कराने की बात पर गृहयुद्ध शांत हो गया। सूडान का क्षेत्रफल 25,05,813 वर्ग किलोमीटर है। 30 साल के इस्लामी शासन को त्याग सितंबर 2020 में सूडान एक धर्मनिर्पेक्ष राज्य बना। यहाँ आज भी 3000 ई. पू. स्थापित बस्तियाँ अपना बजूद बचाए हुए हैं।

दक्षिण सूडान –

यह पूर्वी अफ्रीका में स्थित एक स्थलरुद्ध देश है। इसकी कोई भी सीमा समुद्र से नहीं लगती। जुबा इसकी राजधानी व देश का सबसे बड़ा शहर है। इसके पूर्व में इथोपिया, पश्चिम में केंद्रीय अफ्रीकी गणराज्य, उत्तर में सूडान और दक्षिण में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, उगांडा व केन्या स्थित हैं। यहाँ की राजभाषा अंग्रेजी है। 9 जुलाई 2011 को एक जनमत संग्रह द्वारा इसे सूडान से स्वतंत्रता प्राप्त हुई। इस जनमत संग्रह में देश के भारी जनादेश (98.83 प्रतिशत) ने सूडान से पृथक एक स्वतंत्र राष्ट्र निर्माण के पक्ष में वोट किया। यह विश्व का 196वां स्वतंत्र देश और संयुक्त राष्ट्र संघ का 193वां सदस्य बना। साथ ही यह अफ्रीका का 55वां देश बना। इसने जुलाई 2012 में जेनेवा सम्मेलन पर हस्ताक्षर किये। इसका कुल क्षेत्रफल 6,19,745 वर्ग किलोमीटर है। दक्षिण सूडानी पाउण्ड यहाँ की राष्ट्रीय मुद्रा है।

दक्षिण अफ्रीका –

यह अफ्रीका महाद्वीप का सबसे दक्षिणी हिस्सा है। यहाँ की वैधानिक राजधानी केपटाउन देश का सबसे पड़ा पत्तन नगर है। प्रिटोरियो यहाँ की प्रशासनिक राजधानी है। यह अफ्रीका महाद्वीप का प्रायद्वीपीय भाग है अर्थात यह देश तीन ओर से समुद्र से घिरा है। इसके पूर्व में हिन्द महासागर और पश्चिम में अटलांटिक महासागर स्थित है। इसके उत्तर में नामीबिया, बोत्सवाना, जिम्बांबे और मोजाम्बिक स्थित हैं।

दक्षिण अफ्रीका के दक्षिणतम हिस्से को Cape of Good Hope के नाम से जाना जाता है। यह देश एक उच्च पठार पर स्थित है जिसकी ऊँचाई पूर्व से पश्चिम को ओर घटती जाती है। पूर्वी उच्च भाग को ड्रैकेंसबर्ग कहा जाता है। यहाँ वर्षा की मात्र दक्षिण से उत्तर को ओर और पूर्व से पश्चिम को ओर घटती जाती है। यहाँ की प्रमुख फसल मक्का है। यहाँ का जोहान्सबर्ग स्वर्णनगर के रूप में जाना जाता है। हीरे की खानों का विश्व प्रसिद्ध स्थल किम्बरले यहीं पर स्थित है।

किलीमंजारो पर्वत शिखर पर पहुँची गीता समोता –

भारतीय महिला गीता समोता केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की महिला कर्मचारी हैं। इन्होंने अफ्रीका के सर्वोच्च (5895 मीटर) पर्वत शिखर किलीमंजारो पर चढ़कर एक नया रिकार्ड बनाया। ये इस पर्वत पर सबसे तेजी से चढ़ने वाली भारतीय बनीं। क्लिमंजारों दुनिया का सबसे ऊंचा मुक्त पर्वत शिखर है। इसके शिखर पर तीन ज्वालामुखी शंकु हैं। इससे पहले मात्र 9 साल की आंध्र प्रदेश की ऋत्विका इस पर्वत शिखर पर पहुँची थीं। ऋत्विका किलीमंजारो पर पहुँचने वाली सबसे कम उम्र की एशियाई लड़की हैं।

(Visited 5,887 times, 7 visits today)
error: Content is protected !!