महात्मा गाँधी

महात्मा गाँधी का जीवन परिचय
  • महात्मा गाँधी का जीवन परिचय‘ शीर्षक के इस लेख में महात्मा गाँधी के जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं की जानकारी दी गई है। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी जी का जन्म 02 अक्टूबर 1869 ई. को गुजरात प्रांत के काठियावाड़ जिले के पोरबंदर नामक स्थान पर हुआ था। इनकी माता का नाम पुतली बाई था। इनके पिता करमचंद गाँधी (कबा गाँधी) पोरबंदर रियासत के दीवान थे। 13 वर्ष की अवस्था में इनका विवाह कस्तूर बाई (कस्तूरबा) से हो गया। साल 1889-91 तक इन्होंने इंग्लैंड में रहकर बैरिएस्टर की पढ़ाई की। बापस आने पर इन्होंने राजकोट और बम्बई में वकालत शुरु की। 1892 ई. में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय व्यापारी दादा अब्दुल्ला ने अपने मुकदमें की पैरवी के लिए इन्हें आमंत्रित किया।
Mahatma Gandhi hindiprem.com;

दक्षिण अफ्रीका में गाँधी –

महात्मा गांधी की जीवनी

साल 1893 ई. में ये दक्षिण अफ्रीका चले गए। वहाँ जाते ही इन्हें भारतीयों के साथ हो रहे भेदभाव का अनुभव हो गया। जब गाँधी जी डबरन से प्रियोरियो के लिए प्रथम श्रेणी रेल कोच में सफर कर रहे थे। तब रास्ते में ही मेरित्सबर्ग में एक गोरे ने पुलिस की सहायता से इन्हें ट्रेन से उतरवा दिया। गोरे लोग भारतीयों के साथ सफर करना अपना अपमान समझते थे। इसी घटना से गाँधी जी की जीवन यात्रा ने एक नया मोड़ लिया।
1894 ई. में दक्षिण अफ्रीका में ‘नटाल इंडियन कांग्रेस‘ की स्थापना की। यहाँ पर इन्होंने कालेन बाख की मदद से 1910 ई. में ‘टालस्टाय फार्म‘ की स्थापना की। दक्षिण अफ्रीका में ही इन्होंने ‘इंडियन ओपीनियन’ अखबार की शुरुवात की। 1904 ई. में ‘फीनिक्स आश्रम’ की स्थापना की। गाँधी जी ने यहां आंदोलन किया। फलस्वरूप 1914 ई. में दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने अधिकांश काले कानूनों को रद्द कर दिया। अवज्ञा आंदोलन (सत्याग्रह) का पहला प्रयोग गाँधी जी ने साल 1906 ई. में दक्षिण अफ्रीका में ही किया।

एशियाटिक रजिस्ट्रेशन एक्ट –

दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद की नीति बहुत ही बर्बर थी। वहाँ हर भारतीय को पंजीकरण प्रमाणपत्र लेना पड़ता था। इसके लिए कर देना पड़ता था और हर वक्त इसे अपने साथ रखना पड़ता था। 1906 ई. में गाँधी जी ने इस एक्ट का विरोध किया। इसके लिए एक शिष्टमंडल इंग्लैंड भेजा। इनके बाद इस अधिनियम को समाप्त कर दिया गया।

गाँधी जी की भारत बापसी –

महात्मा गाँधी की जीवनी

9 जनवरी 1915 ई. को महात्मा गाँधी भारत बापस आए। इस तिथि को भारत में ‘प्रवासी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। यहाँ पर ये गोपाल कृष्ण गोखले से मिले और उन्हें अपना राजनीतिक गुरु बना लिया। इस समय प्रथम विश्व युद्ध चल रहा था। गाँधी जी ने ब्रिटिश सरकार का खूब सहयोग किया। इन्होंने लोगों को सेना में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित किया। इसलिए इन्हें भर्ती करने वाला सर्जेंट भी कहा गया। इन्हें लगा कि युद्ध की समाप्ति के बाद अंग्रेज भारत को स्वराज प्रदान कर देगें। 1916 ई. में गाँधी जी ने अहमदाबाद के करीब साबरमती आश्रम की स्थापना की।

चम्पारण सत्याग्रह –

चंपारण सत्याग्रह

बिहार के चम्पारण में किसानों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध अप्रैल 1917 ई. में गांधी जी ने आन्दोलन चलाया। भारत में गांधी का सत्याग्रह का यह पहला प्रयोग था। इस आंदोलन की वजह थी तिनकठिया पद्यति। किसानों को अपनी भूमि के 3/20 भाग पर नील की खेती करनी पड़ती थी। इसे मालिकों द्वारा तय दामों पर उन्हें बेचना पड़ता था। जर्मनी के रासायनिक नील के आ जाने के बाद देशी नील के कारखाने ठप्प होने लगे। अतः किसान भी तिनकठिया पद्यति से छुटकारा चाहते थे। 1917 ई. में रामकुमार शुक्ल ने गांधी जी को चम्पारण आने के लिए आमंत्रित किया। इसी आंदोलन के दौरान रवींद्रनाथ टैगोर ने गाँधी जी को महात्मा की उपाधि दी। परंतु एन. जी. रंगा ने इन आंदोलन का विरोध किया था।

इसे भी पढ़ें  सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय

अहमदाबाद मिल मजदूर आंदोलन –

अहमदाबाद की एक टेक्सटाइल मिल के मालिक व मजदूरों के बीच विवाद चल रहा था। यह विवाद प्लेग बोनस को लेकर था। प्लेग की समाप्ति के बाद मालिक इस बोनस को समाप्त करना चाहते थे। परंतु मजदूर इसका विरोध कर रहे थे। क्योंकि प्रथम विश्वयुद्ध के चलते महंगाई बहुत बढ़ गई थी। मामला न्यायालय में पहुंच गया, न्यायाधिकरण ने 35% बोनस देने का निर्णय दिया।

खेड़ा सत्याग्रह (1918 ई.) –

गुजरात के खेड़ा में किसानों की फसल नष्ट हो जाने के बाद भी लगान में छूट नहीं दी गई। गाँधी जी बिट्ठलभाई पटेल के साथ खेड़ा पहुंचे और सत्याग्रह किया। सरकार ने निर्णय दिया कि लगान उन्हीं किसानों से बसूला जाए जो वास्तव में इसे दे सकते हैं।

खिलाफल आंदोलन (1919-22 ई.) –

प्रथम विश्व युद्ध के बाद ब्रिटेन व तुर्की के बीच हुई सेवर्स की संधि से तुर्की के सुल्तान (खलीफा) की खिलाफत समाप्त हो गई। प्रथम विश्व युद्ध में भारतीय मुसलमानों ने ब्रिटेन का साथ दिया था। परंतु अंग्रेजों के इस कार्य से वे क्रुद्ध हो गए। 23 नवंबर 1919 को ‘अखिल भारतीय खिलाफत कमेटी’ का दिल्ली में अधिवेशन हुआ। गाँधी जी को इसका अध्यक्ष चुना गया। इसी के सुझावों पर स्वदेशी अपनाने और खिलाफल की नीति अपनाई गई। डॉ. अंसारी की अध्यक्षता में एक शिष्टमंडल वायसराय से मिलने इंगलैंड गया। इसके बाद मार्च 1920 ई. में एक और शिष्टमंडल शौकत अली व मुहम्मद अली की अध्यक्षता में इंग्लैंड गया। परंतु ये दोनों ही शिष्टमंडल अपने उद्देश्यों में असफल रहे। 20 जून 1920 ई. को इलाहाबाद में हुई एक बैठक में खिलाफल आंदोलन का निर्णय लिया गया।

कलकत्ता का विशेष अधिवेशन –

सितंबर 1920 ई. में लाला लाजपतराज की अध्यक्षता में हुए कलकत्ता विशेष अधिवेशन में असहयोग आंदोलन को स्वीकार किया गया। सी. आर. दास ने असहयोग आंदोलन का सबसे अधिक विरोध किया। इनका विरोध विधानपरिषदों के वहिष्कार को लेकर था।

कांग्रेस का नागपुर अधिवेशन (1920 ई.)

दिसंबर 1920 के कांग्रेस के नागपुर अधिवेशन में आंदोलन का प्रस्ताव अंतिम रूप से पारित हुआ। इस अधिवेशन की अध्यक्षता सी. वि. राघवाचारियर ने की। इसी समय कांग्रेस के संविधान में संशोधन किया गया। गाँधी जी ने एक वर्ष में आजादी प्राप्त करने की घोषणा की। 1924 ई. में तुर्की में कमालपाशा के नेतृत्व में सरकार बनी और खलीफा के पद को समाप्त कर दिया गया। इसी के साथ खिलाफल आंदोलन भी समाप्त हो गया।

चौरा चौरी काण्ड –

5 फरवरी 1922 को यह घटना गोरखपुर के चौरा चौरी में हुई। जुलूस निकाल रहे किसानों पर गोली चलाए जाने से भीड़ भड़क गई। भीड़ ने थाने में आग लगा दी। इसमें कुल 22 पुलिस वाले मारे गए। गांधी जी ने 12 फरवरी 1922 को बरदोली में कांग्रेस कार्य समिति की एक बैठक बुलाई। इसमें सामूहिक सत्याग्रह और असहयोग आंदोलन को बापस लेने का प्रस्ताव व पारित हुआ। गाँधी जी जानते थे कि सरकार दमनतक्र को तीव्र कर देगी।

गाँधी जी की गिरफ्तारी, मुकदमा व जेल –

10 मार्च 1922 को सरकार द्वारा गाँधी जी को गिरफ्तार कर लिया गया। 18 मार्च 1922 को अहमदाबाद के सेशन कोर्ट में इन पर मुकदमा चला और 6 वर्ष की सजा सुनाई गई। परंतु 5 फरवरी 1924 ई. को बीमार होने के कारण इन्हें रिहा कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें  मध्यप्रदेश सामान्यज्ञान प्रश्न उत्तर

गाँधी दास पैक्ट –

नवंबर 1924 ई. में गाँधी जी, चितरंजन दास, मोतीलाल नेहरु ने एक संयुक्त वक्तव्य दिया। इसे गाँधी-दास पैक्ट के नाम से जाना गया।

गाँधी जी की मृत्यु –

30 जनवरी 1948 ई. को दिल्ली के विड़ला भवन में नाथूराम गोड़ने ने गोली मारकर गाँधी जी की हत्या कर दी।

महात्मा गाँधी जी से संबंधित प्रश्न उत्तर

प्रश्न – गाँधी जी का जन्म कब हुआ ?
उत्तर – 2 अक्टूबर 1869 को
प्रश्न – महात्मा गाँधी जी का जन्म कहाँ पर हुआ था ?
उत्तर – पोरबंदर (गुजरात) में
प्रश्न – गाँधीजी वकालत करने के लिए दक्षिण अफ्रीका कब गए थे ?
उत्तर – 1893 में
प्रश्न – गांधी जी ने पहला सत्याग्रह प्रयोग कब किया किया ?
उत्तर – सितम्बर 1906 में दक्षिण अफ्रीका
प्रश्न – गांधी जी ने पहला सत्याग्रह प्रयोग किसके विरोध में किया ?
उत्तर – ट्रांसवाल में भारतीयों के खिलाफ जारी एशियाई अध्यादेश के विरोध में।
प्रश्न – गांधी जी को पहली बार जेल कब हुई ?
उत्तर – 1908 ई. में
प्रश्न – गांधी जी को पहली बार जेल कहाँ पर हुई ?
उत्तर – दक्षिण अफ्रीका के जोहानिसबर्ग में
प्रश्न – किस रेलवे स्टेशन पर गाँधी अपमानित कर निकाल दिया गया था ?
उत्तर – पीटरमैरिट्सबर्ग रेलवे स्टेशन (दक्षिण अफ्रीका) पर
प्रश्न – गांधीजी ने दक्षिण अफ्रीका में टॉलस्टाय फार्म की स्थापना कब की ?
उत्तर – 1910 ई. में
प्रश्न – गांधीजी फीनिक्स सेटलमेंट कहाँ शुरू किया था ?
उत्तर – दक्षिण अफ्रीका के डरबन में
प्रश्न – गाँधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में किस साप्ताहिक पत्र की शुरुवात की थी ?
उत्तर – इंडियन ओपिनियन (1904)
प्रश्न – गाँधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में साप्ताहिक पत्र की शुरुवात किस वर्ष की थी ?
उत्तर – 1904 ई. में
प्रश्न – गाँधी जी दक्षिण अफ्रीका से भारत कब लौटे ?
उत्तर – 9 जनवरी 1915 को
प्रश्न – गाँधी जी की अफ्रीका से बापसी की तिथि (9 जनवरी) को प्रति वर्ष किस दिवस के रूप में मनाया जाता है ?
उत्तर – प्रवासी भारतीय दिवस।
प्रश्न – गाँधी जी ने भारत में प्रथम सत्याग्रह का प्रयोग किस वर्ष किया?
उत्तर – 1917 ई. में

गाँधी से संबंधित प्रश्न उत्तर –

प्रश्न – भारत में गांधी जी का प्रथम सत्याग्रह कहाँ हुआ था?
उत्तर – चंपारण में
प्रश्न – चंपारण सत्याग्रह किसके समर्थन में किया गया था ?
उत्तर – इंडिगो श्रमिकों के अधिकार के लिए।
प्रश्न – गांधी की पहली अनशन (भारत में गांधी का दूसरा सत्याग्रह) कहाँ पर हुआ था ?
उत्तर – अहमदाबाद में
प्रश्न -किस घटना के बाद गाँधी जी के कैसर ए हिंद की उपाधि त्याग दी ?
उत्तर – जलियांवाला बाग नरसंहार (1919)
प्रश्न – किस तिथि को खिलाफल दिवस के रूप में मनाया गया ?
उत्तर – 31 अगस्त 1920
प्रश्न -यंग इंडिया और नवजीवन साप्ताहिक का प्रारंभ किस ने किया था ?
उत्तर – महात्मा गांधी
प्रश्न -किस एकमात्र कांग्रेस के अधिवेशन की अध्यक्षता गांधी जी की थी ?
उत्तर – 1924 में बेलगाम में कांग्रेस अधिवेशन की
प्रश्न -1932 में अखिल भारतीय हरिजन समाज किसने शुरू किया था ?
उत्तर – हात्मा गांधी
प्रश्न – वर्धा आश्रम कहाँ स्थित है ?
उत्तर – महाराष्ट्र में
प्रश्न -गांधीजी ने साप्ताहिक हरिजन कब शुरू किया था ?
उत्तर – 1933
प्रश्न – गांधीजी ने सुभाष चंद्र बोस को किस नाम से पुकारा ?
उत्तर – देश-भक्त
प्रश्न -गाँधी जी को अर्द्ध नग्न फ़क़ीर *किस ने कहा ?
उत्तर – विंस्टन चर्चिल
प्रश्न – टैगोर को गुरुदेव का नाम किस ने दिया ?
उत्तर – महात्मा गाँधी ने
प्रश्न -गाँधी जी को महात्मा किसने कहा ?
उत्तर – टैगोर
प्रश्न -गाँधी जी का राजनितिक गुरु कौन था ?
उत्तर – गोपाल कृष्ण गोखले
प्रश्न -गाँधी का अध्यात्मिक गुरु कौन है ?
उत्तर – लियो टॉल्स्टॉय
प्रश्न -गाँधी जी की हत्या कब हुई ?
उत्तर – 30 जनवरी 1948 को नाधुरम विनायक गोडसे
प्रश्न – गाँधी जी ने ‘पोस्ट डेटेड चेक’ किसे कहा ?
उत्तर – क्रिप्स मिशन (1942) को
प्रश्न -गाँधी जी ने ‘हिन्द स्वराज’ का प्रकाशन कब किया ?
उत्तर – 1908 में

महात्मा गाँधी से संबंधित प्रश्न उत्तर

प्रश्न – बाबा बाबा आम्टे को ‘अभय सदक’ ‘Abhay Sadak का ख़िताब किस ने दिया ?
उत्तर – महात्मा गाँधी
प्रश्न – भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में किस अवधि को ‘गांधी युग’ के रूप में माना जाता है ?
उत्तर – 1915 – 1948
प्रश्न -भारत में गांधी जी का तीसरा सत्याग्रह कहाँ था ?
उत्तर – खेड़ा सत्याग्रह
प्रश्न – गांधी की आत्मकथा का असली नाम क्या है ?
उत्तर – सत्य के प्रयोगों
प्रश्न – किस काल को गांधी की आत्मकथा का काल माना जाता है ?
उत्तर – 1869 – 1921
प्रश्न – गांधीजी की आत्मकथा प्रथम बार कब प्रकाशित हुई ?
उत्तर – 1927 (नवजीवन में )
प्रश्न – गाँधी जी ने अपने आत्मकथा किस भाषा में लिखी ?
उत्तर – गुजरती
प्रश्न – गाँधी जी की आत्मकथा का इंग्लिश में अनुवाद किस ने किया था ?
उत्तर महादेव देसज़ी
प्रश्न – सत्याग्रह सभा की स्थापना किसने की थी ?
उत्तर – महात्मा गाँधी ने
प्रश्न – महादेव देसाई के हस्तान्तरण के बाद गाँधी जी का सचिव किसे बनाया गया था ?
उत्तर – प्यारेलाल
प्रश्न – गाँधी जी की अनुयायी मीरा बहन का वास्तविक नाम क्या था ?
उत्तर – मेडेलीन स्लेड
प्रश्न – किस ने गांधी के दांडी मार्च की तुलना श्री राम की लंका पौराणिक यात्रा से की थी ?
उत्तर – मोतीलाल नेहरू
प्रश्न – किसे सीमांत गांधी नाम से जाना जाता है ?
उत्तर – खान अब्दुल गफ्फार खान
प्रश्न – किसे बिहार के गाँधी के रूप में जाना जाता है ?
उत्तर – डॉ राजेन्द्र प्रसाद

गांधी से संबंधित प्रश्न उत्तर –

प्रश्न – आधुनिक गांधी के रूप में किसे जाना जाता है ?
उत्तर – बाबा आम्टे
प्रश्न – श्रीलंका के गांधी के रूप में जाना जाता है ?
उत्तर – ए.टी. अरियाराटने
प्रश्न – अमेरिकन गांधी के रूप में कौन जाना जाता है ?
उत्तर – मार्टिन लूथर किंग
प्रश्न – बर्मी गांधी के रूप में कौन जाना जाता है ?
उत्तर – जनरल आंग सान
प्रश्न – अफ्रीकी गांधी के रूप में किसे जाना जाता है ?
उत्तर – केनेथ कौंडा
प्रश्न – दक्षिण अफ्रीका के गांधी के रूप में जाना जाता है ?
उत्तर – नेल्सन मंडेला
प्रश्न – गाँधी जी ने अपनी पुस्तक हिंद स्वराज कब लिखी ?
उत्तर – 1909 ई. में
प्रश्न – असहयोग आंदोलन का विरोध किसने किया था ?
उत्तर – चितरंजन दास, एनीबेसेंट, जिन्ना, बिपिनचंद्र पाल, जी. एस. खापर्डे।
(Visited 311 times, 1 visits today)
error: Content is protected !!